एक चायवाला जिसने लिख डालीं ढेरों किताबें

 एक चायवाला जिसने लिख डालीं ढेरों किताबें
लक्ष्मण राव जी रोजा-रोटी चलाने के लिए चाय बेचते हैं, लेकिन अपने शौक को जीने के लिए वह पिछले 45 सालों से किताबें लिख रहे हैं।