प्रधानमंत्री आवास योजना से आप कैसे ले सकते हैं होम लोन पर सब्सिडी ? पढ़िए पूरी खबर

प्रधानमंत्री आवास योजना से आप कैसे ले सकते हैं होम लोन पर सब्सिडी ? पढ़िए पूरी खबर

गर आप मकान खरीदने की योजना बना रहे हैं तो प्रधानमंत्री आवास योजना (PMAY) आपका काम आसान कर सकती है. पहले PMAY का लाभ सिर्फ गरीब वर्ग के लिए था. अब होम लोन की रकम बढ़ाकर शहरी इलाकों के गरीब और मध्यम वर्ग को भी PMAY के दायरे में लाया गया है. 

शुरुआती प्रावधानों के मुताबिक PMAY में होम लोन (Home Loan) की रकम 3 से 6 लाख रुपये तक थी, जिस पर PMAY के तहत ब्याज पर सब्सिडी दी जाती थी. अब इसे बढ़ाकर अब 18 लाख रुपये तक कर दिया गया है. 

आइए जानते हैं कि प्रधानमंत्री आवास योजना (PMAY) के आवेदन के लिए क्या जरूरी शर्तें हैं?

कौन उठा सकता है प्रधानमंत्री आवास योजनाPMAY) का लाभ? 
PMAY का लाभ उठाने के लिए आवेदक की उम्र 21 से 55 साल होनी चाहिए. हालांकि, अगर परिवार के मुखिया या आवेदक की उम्र 50 साल से अधिक है तो उसके प्रमुख कानूनी वारिस को होम लोन में शामिल किया जायेगा. 

प्रधानमंत्री आवास योजना( PMAY )का लाभ लेने के लिए कितनी आमदनी होनी चाहिए?

EWS (निम्न आर्थिक वर्ग) के लिए सालाना घरेलू आमदनी 3.00 लाख रुपये तय है.

LIG (कम आय वर्ग) के लिए सालाना आमदनी 3 लाख से 6 लाख के बीच होनी चाहिए.

सालाना 12 और 18 लाख रुपये तक की आमदनी वाले लोग भी PMAY का लाभ उठा सकते हैं. 

आय का प्रमाण: 

  • वेतन पाने वाले लोगों के लिए वेतन प्रमाण पत्र, फार्म 16, या इनकम टैक्स रिटर्न (ITR)
  • अपना काम करने वाले लोगों के लिए 2.50 लाख रुपये तक की सालाना आमदनी के लिए आय प्रमाण पत्र के रूप में हलफनामा प्रस्तुत किया जा सकता है. .. 

PMAY के तहत सरकारी सब्सिडी की रकम 
PMAY में ब्याज पर मिलने वाली सब्सिडी ब्याज की रकम का अंतर (वास्तविक और सब्सिडी प्राप्त) नहीं होगी. यह ब्याज सब्सिडी की रकम का नेट प्रजेंट वैल्यू (एनपीवी यानी NPV) होगी. 

सालाना आमदनी के हिसाब से ब्याज पर सब्सिडी की रकम 

PMAYtable1

यह नौ फीसदी के डिस्काउंट रेट पर कैलकुलेट की जाएगी. किसी सब्सिडी की एनपीवी की गणना करने के लिए आपको लोन के लिए चुकी जाने वाली राशि और और हर मासिक क़िस्त में ब्याज की रकम पर ध्यान देने की जरूरत है. PMAY में सब्सिडी की रकम से आपके लोन की रकम घट जाती है और इस तरह आप पर ब्याज का बोझ कम हो जाता है.


 

PMAY-table2



PMAY में कैसे होगी ब्याज सब्सिडी की गणना 

  • मान लेते हैं कि लोन लेने वाले किसी व्यक्ति की सालाना आमदनी छह लाख रुपये है.
  • (लोन की अधिकतम रकम छह लाख रुपये: सब्सिडी: 6.5 फीसदी)
  • लोन की वास्तविक राशि: 6 लाख रुपये
  • ब्याज दर : 9 फीसदी
  • मासिक क़िस्त: 5,398 रुपये
  • 20 सालों में कुल ब्याज: 6.95 लाख रुपये
  • 6.5 फीसदी सब्सिडी के हिसाब से आपका ब्याज सब्सिडी के बाद एनपीवी 2,67,000 रुपये हो जायेगा.

यही ब्याज सब्सिडी सरकार लोगों को उपलब्ध करा रही है. इस हिसाब से आपका PMAY लोन वास्तव में छह लाख रुपये की जगह 3.33 लाख रुपये हो जाता है.

 

कितना होगा PMAY में फायदा? 

  • यह ध्यान रखें कि कर्ज लेने वाले ने नौ फीसदी सालाना के हिसाब से लोन लिया है. यह इसलिए घट जाता है क्योंकि ब्याज सब्सिडी की राशि कर्ज लेने वाले के एकाउंट में पहले ही डाल दी जाती है.
  • इसका असर घटी हुई मासिक क़िस्त और ब्याज के कम बोझ के रूप में सामने आती है.
  • लोन की संशोधित रकम : 3.33 लाख रुपये
  • ब्याज दर : 9 फीसदी
  • मासिक क़िस्त: 2,996 रुपये
  • 20 सालों में चुकाया जाने वाला कुल ब्याज: 3.86 लाख रुपये
  • मासिक क़िस्त में बचत : 2,402 रुपये
  • ब्याज में कुल बचत: 3, 08,939 रुपये

  • कैसे मिलेगा PMAY सब्सिडी का लाभ? 
  • होम लोन लेने वाले संस्थान से सब्सिडी के बारे में बात करें.
  • अगर आप योग्य हैं तो पहले सेंट्रल नोडल एजेंसी को आपका आवेदन भेजा जायेगा.
  • अगर मंजूरी मिल गयी तो एजेंसी सब्सिडी की रकम कर्ज देने वाले बैंक को दे देगी.
  • यह रकम आपके लोन अकाउंट में आ जाएगी.
  • अगर आपकी सालाना आमदनी सात लाख है और लोन की रकम 9 लाख, तो आपकी सब्सिडी 2.35 लाख रुपये बनेगी.
  • इसे घटाने के बाद आपके लोन की रकम 6.65 लाख रुपये बचेगी. आप इस रकम पर मासिक किस्त भरेंगे.
  • अगर लोन की रकम आपकी सब्सिडी की योग्यता से अधिक है तो अतिरिक्त रकम पर आपको सामान्य दर से ब्याज चुकाना पड़ेगा.

PMAY में क्या बरतें सावधानी? 

  • वास्तव में होम लोन पर ब्याज दर नौ फीसदी से अलग भी हो सकते हैं.
  • इस समय MCLR पर आधारित होम लोन की दरें 8.5 फीसदी के करीब हैं.
  • इस वजह से ब्याज दर और मासिक क़िस्त कम हो सकती हैं.
  • PMAY का लाभ उठाने के लिए योग्यता संबंधी मसले चेक कर लें.

  •