डायबिटीज, ब्‍लड प्रेशर और कैंसर के रोगियों के लिए फायदेमंद है जामुन का सेवन

डायबिटीज, ब्‍लड प्रेशर और कैंसर के रोगियों के लिए फायदेमंद है जामुन का सेवन
इंडिया बेस्ट न्यूज़ | New Delhi | Purushottam Dubey
" भागदौड़ की जिंदगी में हम सब जाने जाने में जाने अनजाने में हम सब रहन सहन खानपान बहुत सही नहीं है और ना ही समय दे पाते हैं लेकिन स्वस्थ जीवन हम सबको खुशियों भरा जीवन दे सकते हैं...आज भारती ही नहीं पूरे विश्व में डायबिटीज ब्लड प्रेशर कैंसर यह सब की प्रमुख बीमारियां लोगों में पाई जा रही है खास करके भारत डायबिटीज और ब्लड प्रेशर का सबसे बड़ा शिकार देश है "                                                                         
आज इंडिया बेस्ट न्यूज़ हमारे सभी दर्शकों को जामुन और जामुन के बीज के सेवन से पुणे वाले पुणे वाले होने वाले फायदे के बारे में बताएं : जामुन के बीज में कार्बोहाइड्रेट प्रोटीन और कैल्शियम अधिक मात्रा में पाया जाता है। इसके पत्ते फल छिलका और गुठलियां कई प्रकार के रोगों में इस्तेमाल की जाती हैं।
 जामुन निस्संदेह मधुमेह के लिए सबसे अच्छे प्राकृतिक उपचारों में से एक है
जामुन में खनिजों की मात्रा अधिक होती है। इसके बीज में कार्बोहाइड्रेट, प्रोटीन और कैल्शियम अधिक मात्रा में पाया जाता है। जामुन में आयरन, विटामिन और फाइबर पाया जाता है। जामुन में ग्लूकोज और फ्रक्टोज पाया जाता है। जामुन से जैम और जैली, वाइन व अन्य खाद्य पदार्थ भी बनाए जाते हैं। लोग काले नीले और रसीले जामुन के फल बेचते दिखाई देते हैं। जामुन दवा के गुणों से भरपूर मौसमी फल है। आयुर्वेद के शास्त्रों में जामुन के कई गुणों का विश्लेषण किया गया है। इसके पत्ते, फल, छिलका और गुठलियां कई प्रकार के रोगों में इस्तेमाल की जाती हैं। आइए जानते हैं कि जामुन आपके स्वास्‍थ्‍य के लिए कितना फायदेमंद है।
जामुन खाने के सेहत से जुड़े हैं ये फायदे
जामुन के बीज स्वस्थ यौगिकों से भरे हुए हैं। तो इससे पहले कि आप फल को खाने के बाद इसके बीज को फेंक दें, यहां हम आपको जामुन के बीज के फायदों के बारे में बता रहे हैं।
 
मधुमेह को नियंत्रित करें
फल की तरह ही जामुन के बीज भी मधुमेह विरोधी गतिविधि में हिस्‍सा लेते हैं। बीज में एल्कलॉइड होते हैं, यह रसायन जो शर्करा में स्टार्च के रूपांतरण को रोकते हैं और इसलिए आपके रक्त शर्करा के स्तर को नियंत्रण में रखने में सहायता करते हैं।
रक्तचाप को कम करता है
ब्‍लड शुगर यानी रक्‍त शर्करा को कम करने के साथ जामुन के बीज रक्तचाप यानी ब्‍लड प्रेशर को भी कम करने में मदद करते हैं।

 

शरीर को डिटॉक्सीफाई करता है
जामुन के बीज में फ्लेवोनोइड, एक शक्तिशाली एंटीऑक्सिडेंट से समृद्ध होता है, जो न केवल शरीर से हानिकारक मुक्त कणों को फ्लश करने में मदद करता है बल्कि एंटीऑक्सिडेंट एंजाइमों पर एक सुरक्षात्मक प्रभाव डालता है।

 

पेट की समस्याएं
न केवल प्रतिरक्षा प्रणाली और अग्नाशय प्रणाली, बल्कि जामुन के बीज भी पाचन तंत्र को सही करने और पेट की आम समस्याओं के उपचार में महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं। बीज के अर्क का उपयोग आंत और जननांग पथ के घावों और अल्सर के इलाज के लिए किया जाता है।
जामुन में विटामिन सी, कैरोटीन, आयरन, फोलिक एसिड, पोटाशियम, मैग्नीशियम, फॉस्फोरस, सोडियम, फेनॉल्स, प्रोटीन, कैल्शियम, ग्लूकोज, फ्रक्टोज फाइटोकेमिकल्स जैसे पोषक तत्व मिलते हैं। इसमें एंटी ऑक्सीडेंट्स भरपूर मात्रा में होते हैं। जामुन के सेवन से शरीर की रोग-प्रतिरोधक क्षमता भी मजबूत होती है। यह पाचन तंत्र के लिए भी लाभकारी है। इसका सेवन चेहरे पर रौनक लाता है, भूख बढ़ाता है, रक्त की कमी को दूर करता है। यह कब्ज व एसिडिटी में भी लाभदायक है। कभी भी खाली पेट जामुन का सेवन न करें। न ही कभी जामुन खाने के बाद दूध का सेवन करें। अधिक मात्रा में भी जामुन खाने से बचें।
 
आयुर्वेद के जानकार एवं आरोग्य भारती के जिलाध्यक्ष वैद्यराज संजीव भारद्वाज ने बताया कि कभी भी खाली पेट जामुन नहीं खाना चाहिए। हमेशा खाना खाने के बाद ही जामुन खाना चाहिए और जामुन खाने के बाद पानी भी नहीं पीना चाहिए। उन्होंने कहा जामुन नमक लगाकर खाने से यह ज्यादा स्वादिष्ट लगता है और शीघ्र ही पच भी जाता है। उन्होनें बताया कई लोग घर में ही जामुन का सिरका बना लेते हैं। जो सलाद के साथ लेने से कई पेट के रोगों में फायदेमंद हैं। दस्त और पेचिश में जामुन के पत्तों को पीस कर नमक के साथ सेवन करने से बहुत फायदा होता है। जामुन और अमरूद के पत्ते मिलाकर दातुन करने से मुंह की दुर्गध नष्ट होती है और छाले भी ठीक होते हैं। इसके पेड़ की छाल का काढ़ा लेने से गर्भाशय के रोग ठीक होते हैं। उन्होंने बताया जामुन खून को साफ करती है और कई चर्म रोगों को दूर करती है। बरसात में जामुन के फल खाने चाहिए।

 

सेहत के लिए वरदान
  • डायबिटीज रोगियों के लिए जामुन बहुत गुणकारी फल है। यह स्टार्च को ऊर्जा में बदलने में मदद करता है और रक्त में शक्कर की मात्रा कम करता है। इसकी पत्तियां, तने की छाल और गुठली भी प्रमाणिक तौर पर मधुमेह के उपचार में काम आती हैं।
  •  इसमें प्रचुर मात्रा में लौह पाया जाता है, जो रक्त के लिए अच्छा है।
  •  जामुन में एंटी कैंसर के गुण भी पाए जाते हैं। यह कीमोथेरेपी और रेडिएशन में भी फायदेमंद होता है।
  •  यह पाचन तंत्र के लिए अच्छा फल है। इसकी तासीर ठंडी होने के कारण यह त्वचा पर पड़ने वाले दानों, झुर्रियों और दाग-धब्बों को कम करता है।
  •  इसमें मौजूद एंटीऑक्सीडेंट और फ्लेवैनॉइड से रक्त शुद्ध होता है जिससे लिवर स्वस्थ रहता है।
  •  दस्त और पेचिश में जामुन के पत्तों को पीस कर नमक के साथ सेवन करने से बहुत फायदा होता है।
  •  जामुन और अमरूद के पत्ते मिलाकर दातुन करने से मुंह की दुर्गध नष्ट होती है और छाले भी ठीक होते   हैं।
  •  जामुन खून को साफ करती है और कई चर्म रोगों को दूर करती है। बरसात में जामुन के फल खाने चाहिए।
जामुन के बीज का पाउडर कैसे बनाएं
  • जामुन के बीज को अच्‍छी तरह से धो लें और सुखा लें।
  • जामुन के बीज पिस्‍ते की तरह दिखाई देते हैं।
  • सुखने के बाद जामुन के बीज को पीसना थोड़ा मुश्किल हो जाता है, इसलिए इसे छोटे-छोटे टुकड़ों में तोड़ दें।
  • इसे रोजाना 1 चम्मच की मात्रा में सुबह खाली पेट गुनगुना पानी के साथ सेवन करें।